बिहार शराबबंदी में शराबी हुए चूहे, गटक गए 9 लाख लीटर शराब

बिहार में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के पूर्ण शराबबंदी के फैसले के दौरान राज्य में लाखों लीटर शराब जब्त की गई. अब खबर ये आ रही है कि जब्त की गई शराब की खेप मालखाने में रखे-रखे चूहे गटक गए. करीब 9 लाख लीटर शराब मालखाने से चूहों द्वारा गटके जाने का मामला सामने आया है.
मीडिया में आई रिपोर्ट के आधार पर बिहार पुलिस मुख्यालय ने मामले की जांच के आदेश दिए हैं. एडीजी (मुख्यालय) एस के सिंघल ने बताया कि पटना क्षेत्र के डीजी पुलिस को मामले की जांच के आदेश दिए गए हैं. जांच रिपोर्ट के आधार पर पुलिस मुख्यालय द्वारा आगे की कार्रवाई की जाएगी.
मीडिया रिपोर्ट के अनुसार पिछले 13 महीने के दौरान 9.15 लाख लीटर अल्कोहल, देशी और विदेशी शराब जब्त की गई और पुलिस क्राईम मीटिंग के दौरान यह बात सामने आई कि इसमें से एक बड़ा हिस्सा पुलिस थाना लाने के क्रम में बर्बाद हो गया. जबकि उतनी ही बड़ी मात्रा को चूहे पुलिस मालखाना में हजम कर गए.पटना क्षेत्र के आईजी नय्यर हसनैन खान ने बताया कि उन्होंने पटना के एसएसपी को पुलिस मालखाने से इसकी जांच कर रिपोर्ट सौंपने को कहा है.
कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने भी इस बात का मजाक बनाते हुए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर तंज कसा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ‘नीतीश कुमार के शराबबंदी फैसले का सबसे ज्यादा फायदा बिहार पुलिस स्टेशन के चूहों को हुआ.

बिहार में करीब 1053 पुलिस थाने हैं
इस बीच पुलिस ने बिहार पुलिस मेंस एसोसियेशन के अध्यक्ष और एक सदस्य को शराब सेवन करने के आरोप में गिरफ्तार किया है.
पटना के एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि पुलिस टीम ने एसोसिएशन के अध्यक्ष निर्मल सिंह और एक अन्य सदस्य शमशेर सिंह को पुलिस लाइन में शराब पीते गिरफ्तार कर लिया.
दोनों को उत्पाद विभाग के विशेष न्यायाधीश रविंद्र नाथ त्रिपाठी के समक्ष पेश किया गया और उन्हें नए मद्य निषेध एवं उत्पाद अधिनियम 2016 के तहत आगामी 18 मई तक के लिए न्यायिक हिरासत में बेउर जेल भेज दिया गया. उल्लेखनीय है कि नीतीश सरकार ने पिछले वर्ष अप्रैल महीने से प्रदेश में पूर्णशराबबंदी लागू की थी और इसे लागू करने के लिए पुलिस एवं मद्य निषेध एवं उत्पाद विभाग द्वारा विशेष अभियान चलाया गया है.