पटना [जेएनएन]। मधेपुरा सांसद राजेश रंजन उर्फ पप्पू यादव को हथकड़ी लगाकर कोर्ट लाए जाने का मामला लोकसभा में गूंजने पर पटना के एसएसपी ने एक दारोगा, सहायक दारोगा और सिपाही समेत 11 पुलिसकर्मियों को गुरुवार को निलंबित कर दिया।

बताते चलें कि सांसद को गांधी मैदान थाने में दर्ज एक पूर्व मामले में गिरफ्तार किए जाने के बाद बेउर जेल भेज दिया गया था। एक अप्रैल को पुलिस ने उन्हें बेउर जेल से निकालने के बाद सिविल कोर्ट में पेश किया था। उनकी सुरक्षा में नवीन पुलिस केंद्र के दारोगा, एएसआइ और नौ पुलिसकर्मी भेजे गए थे।

पुलिसकर्मियों ने बेउर जेल से उन्हें बाहर निकालने के बाद हथकड़ी लगा दी थी। पप्पू यादव की पत्नी सांसद रंजीत रंजन ने पुलिसकर्मियों पर गैरजिम्मेदाराना तरीके से कोर्ट में पेश करने का आरोप लगाया। रंजीत ने यह मामला संसद की कार्रवाई के दौरान उठाया और बिहार में पुलिस की ज्यादती से संसद को अवगत कराया।

लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन ने बिहार सरकार से मामले की रिपोर्ट तलब की थी। इससे पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आज आनन-फानन एक दारोगा, एक एएसआइ और नौ पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया।

पूछे जाने पर एसएसपी मनु महाराज ने बताया कि पुलिसकर्मियों को लापरवाही एवं कोताही बरतने के आरोप में निलंबित किया गया है।

Source: www.jagran.com