बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी एक बयान देकर बुरी तरह फंस गई. दरअसल, उन्होंने अपने पति लालू प्रसाद यादव के जन्मदिन के मौके पर कहा था कि वह अपने बेटों के लिए सिनेमा और मॉल जाने वाली लड़की को बहू के रूप पर पसंद नहीं करेंगी. उन्होंने कहा कि वो ‘संस्कारी लड़की’ को बहू बनाएंगी. बस इसी के बाद मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक बहस छिड़गई कि आख़िर राबड़ी देवी की नज़र में ‘संस्कारी बहू’ कौन है? वहीं ये बहस भी बनी रही कि राबड़ी देवी का मानना है कि मॉल जाने वाली लड़कियां संस्कारी नहीं होती। इस बहस को ठंडा करने के लिए लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट करके बताया है कि आख़िर संस्कारी बहू कौन है?

लालू ने ट्विटर पर लिखा कि संस्कारी बहू का मतलब ढंकी-छुपी, घर पर रहने वाली, किसी पर निर्भर महिला नहीं है. इसका मतलब है ऐसी महिला जिसके पास मजबूत इच्छाशक्ति हो, वो प्यार और परवाह करने वाली हो, भले ही वो नौकरीपेशा हो या गृहिणी. ज़ाहिर है लालू ने अपनी पत्नी के बन रहे मज़ाक को ख़त्म करने के लिए ये ट्वीट किया. सिर्फ पति ही नहीं, राबड़ी देवी का बेटा तेजस्वी यादव भी मां के बचाव में दिखा.

तेजस्वी ने राबड़ी की फेसबुक पोस्ट को ट्वीट किया और साथ में लिखा कि उनकी मां ने ‘संस्कारी बहू’ के बारे में जो कहा, उसका असली मतलब जानने के लिए आपको उनकी फेसबुक पोस्ट पढ़नी चाहिए. राबड़ी देवी की यो फेसबुक पोस्ट हिंदी में है जिसमें लिखा है –

मैंने ये नहीं कि मुझे मॉल या सिनेमा जाना वाली बहू नहीं चाहिए. सिनेमा वाली बहू से मेरा तात्यर्य फिल्मी कलाकारों से था, ना कि वे लड़कियां जो ‘मॉल-सिनेमा’ देखने जाती हैं. ना तो मैं फिल्मों में काम करने वाली स्वावलंबी और आत्मनिर्भर फिल्मी अदाकारों को कमतर आंकती हूं और ना ही स्त्रियों के स्वतंत्रता और स्वेच्छा से घूमने फिरने या जीवनयापन के विरुद्ध हूं. मॉल का तो कहीं कोई जिक्र ही नहीं था. मेरा तात्पर्य बस इतना था कि मेरा एक बड़ा राजनीतिक और सामाजिक परिवार है. इसलिए मेरे विचार से वह बहू बेहतर होगी जो हमारे सामाजिक परिवेश, परिदृश्य, राजनीति और गरीबों की हमारे परिवार से जो अपेक्षाएं और परिवार की जिम्मेवारियां है उन्हें वह भली भांति समझ पाए.

क्या है पूरा मामला

11 जून को लालू प्रसाद यादव का जन्मदिन था. इस मौके पर किसी पत्रकार ने राबड़ी देवी से पूछ लिया कि उन्हें अपने बेटों के लिए कैसी बहू चाहिए. इस पर उन्होंने कहा कि उन्हें सिनेमा हॉल और मॉल जाने वाली लड़की नहीं चाहिए. घर चलाने वाली, बड़े बुजुर्गों का आदर करने वाली, जैसे कि हम हैं वैसी लड़की चाहिए।’ उन्होंने कहा कि उन्हें ‘संस्कारी लड़की’ को बहू बनाएंगी. तेज प्रताप के लिए वह खास तौर पर संस्कारी लड़की चाहती हैं क्योंकि उनके मुताबिक वह बहुत धार्मिक है.