narendra-modi-and-benjamin-netanyahu
इजरायल के पीएम बेंजामिन नेतन्याहू के साथ नरेंद्र मोदी।(photo source : timesofisrael.com)
नरेंद्र मोदी मंगलवार को इजरायल पहुंचे। पीएम बेंजामिन नेतन्याहू ने मोदी के लिए 5 प्रोटोकॉल तोड़े। मंगलवार देर शाम मोदी और नेतन्याहू ने मीडिया के सामने साझा बयान दिया। दोनों ने आतंकवाद के खिलाफ मिलकर लड़ने की बात कही। आज मोदी प्रेसिडेंट रेउवेन रिवलिन से मुलाकात करेंगे। वे 26/11 हमलों के दौरान पाक आतंकियों की फायरिंग में मारे गए इजरायली कपल के बेटे बेबी मोशे से भी मुलाकात करेंगे। यह पहला मौका होगा जब कोई भारतीय पीएम विदेश में मुंबई हमलों के विक्टिम से मिलेगा। बता दें कि मोदी 70 साल में इजरायल जाने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। उनका जिस तरह स्वागत हुआ है, इजरायल में ऐसा सम्मान सिर्फ यूएस प्रेसिडेंट और पोप को मिलता है।
मोदी ने कहा, “जो ह्युमैनिटी और सोशल वैल्यूज में भरोसा रखते हैं, उन्हें मिलकर आतंकवाद की समस्या, कट्टरपंथ और हिंसा को रोकना चाहिए। याद वाशेम (होलोकॉस्ट मेमोरियल) आपकी मजबूत भावना को बयां करता है, जिसे मेरी श्रद्धांजलि है। आप हर ट्रैजेडी से उबरे, नफरत से बाहर आए और लोकतांत्रिक देश को बनाया। याद वाशेम हमें बताता है कि जो ह्युमैनिटी और सोशल वैल्यूज में यकीन रखते हैं, उन्हें मिलकर इसे हर हाल में कायम रखना चाहिए।

अपने यहूदी बेटे-बेटियों पर फख्र

मोदी ने कहा, “हमें लेफ्टिनेंट जनरल जेएफआर जैकब, वाइस एडमिरल बेंजामिन सैमसन, फिल्म एक्टर्स नादिरा, सुलोचना और इंडियन सोसाइटी के ताने-बाने को ऊंचाइयों पर ले जाने वाली प्रमिला जैसे अपने यहूदी बेटों और बेटियों पर गर्व है। हम मिलकर महान चीजें कर सकते हैं।”

मिलकर तैयार करेंगे एजेंडा

  • “आने वाले दशकों में हम ऐसे रिश्ते बनाना चाहते हैं, जो हमारे आर्थिक रिश्तों को एक मिसाल में बदल दें। भारत दुनिया की तेजी से बढ़ने वाली इकोनॉमी है। हमारा फोकस टेक्नोलॉजी और इनोवेशन के जरिए डेवलपमेंट पर है। ये प्रायोरिटीज हमें इजरायल के साथ एकेडमिक, साइंटिफिक, रिसर्च और बिजनेस रिलेशंस बढ़ाने का मौका देती हैं।’
  • “हम दोनों देशों के बीच मजबूत डिफेंस रिलेशंस भी चाहते हैं ताकि हमारी शांति, स्थिरता और खुशहाली को खतरा पहुंचाने वालों को जवाब दिया जा सके। इन सारी चीजों पर नेतन्याहू के साथ मिलकर एक क्लियर एक्शन एजेंडा बनाने पर काम करेंगे।”

नेतन्याहू ने ये 5 प्रोटोकॉल तोड़े

  1. मोदी जब तेल अवीव एयरपोर्ट पहुंचे तो इजरायली पीएम के साथ 11 मंत्री और सरकार के 40 डेलिगेट्स मौजूद थे। यूएस प्रेसिडेंट और पोप के अलावा किसी और वर्ल्ड लीडर के लिए पहले ऐसा नहीं हुआ था।
  2. मोदी के स्वागत में एयरपोर्ट पर दोनों देशों का राष्ट्रगान गाया गया। वहीं, गॉर्ड ऑफ आॅनर दिया गया। इस दौरान भी नेतन्याहू मौजूद थे।
  3. मोदी 3 दिन में 18 प्रोग्रम्स में हिस्सा लेंगे। इनमें से 12 में इजरायली पीएम उनके साथ रहेंगे।
  4. नेतन्याहू अपने देश में आने वाले वर्ल्ड लीडर्स के साथ 1 मीटिंग और लंच/डिनर करते हैं। मोदी के साथ वे दो डिनर और दो लंच करेंगे।
  5. दौरे के आखिरी दिन मोदी को गुडबाय कहने के लिए इजरायली प्रधानमंत्री एयरपोर्ट पर मौजूद रहेंगे। साथ में होगी उनकी पूरी कैबिनेट।

इजरायल में मोदी का 5 जुलाई का शेड्यूल

12:00 PM- इजरायल के प्रेसिडेंट रुवेन रिवलिन के साथ वर्किंग मीटिंग करेंगे। यह करीब एक घंटे चलेगी।
1:00 PM- इजरायल के पीएम नेतन्याहू के साथ मीटिंग करेंगे, जो करीब आधा घंटे चलेगी।
2:00 PM- मोदी-नेतन्याहू के बीच एग्रीमेंट्स होंगे, फिर वे प्रेस कॉन्फ्रेंस करेंगे।
4:30 PM- मोदी किंग डैविड होटल में इजरायल के अपोजिशन के लीडर इसाक हर्जोग से मिलेंगे।
5:00 PM- इंडियन कम्युनिटी के लोगों से मिलेंगे। इसके बाद पीएम नेतन्याहू के साथ कोचिन सिनेगॉग म्यूजियम जाएंगे।
7:45 PM- तेल अवीव कन्वेंशन सेंटर में यहूदी नेताओं से मिलेंगे। इसके बाद गुजराती मूल के हीरा व्यापारियों से मुलाकात करेंगे। मोदी उस बच्चे से भी मिलेंगे, जिसके पैरेंट्स मुंबई में 26/11 हमले में मारे गए थे। वे कन्वेंशन सेंटर के पवेलियन 2 में इंडियन कम्युनिटी के रिसेप्शन में भी शामिल होंगे। इन सभी कार्यक्रमों में नेतन्याहू मोदी के साथ रहेंगे।

इजरायल पहुंचकर क्या बोले मोदी?

  1.  हिब्रू में की स्पीच की शुरुआत – एयरपोर्ट पर हुई वेलकम सेरेमनी में मोदी ने अपनी स्पीच की शुरुआत हिब्रू भाषा में बाेलकर की। उन्होंने कहा, “भारत-इजरायल देशों के बीच जब से फुल डिप्लोमैटिक रिलेशंस शुरू हुए हैं, तब से रिश्तों ने तरक्की की है। इजरायल के लोगों ने यह देश डेमोक्रेटिक प्रिंसिपल्स पर बनाया है। तमाम विपरीत हालात और चुनौतियों के बावजूद आपने तरक्की की। चुनौतियों को मौकों में बदला है। 41 साल पहले ऑपरेशन एंटेबे के वक्त नेतन्याहू के बड़े भाई ने बलिदान दिया था।”
  2. हमारी सभ्यता पुरानी, लेकिन भारत यंग है – “भारत पुरानी सभ्यता वाला देश है, लेकिन काफी यंग है। भारत में 80 करोड़ लोग 35 साल से कम उम्र के हैं। इजरायल की इकोनॉमी, बिजनेस करने का तरीका और दुनिया से रिश्ते हमें प्रेरित करते हैं।”
  3. इजरायल सबसे अहम पार्टनर – “भारत इजरायल को अपना सबसे अहम पार्टनर मानता है। हायर टेक्निकल एजुकेशन और इनोवेशन के मामले में यह देश आगे है। इजरायल का इन सेक्टर्स में दबदबा क्रिएटिव आइडियाज लेकर आता है। हम लोग इकोनॉमिक प्रॉस्पैरिटी पर काम करने के अलावा टेररिज्म जैसी चुनौतियों से भी हमारे समाजों की हिफाजत कर रहे हैं।”
  4. भारतीय कम्युनिटी के लोगों से मुलाकात का इंतजार – “मुझे इजरायल में भारतीय कम्युनिटी के लोगों और यहूदियों से मुलाकात का इंतजार है। मेरा यह दौरा दोनों देशों के बीच बातचीत के नए दौर की शुरुआत करेगा। यह हमारे देशों की जनता और सोसायटी के लिए फायदेमंद साबित होगा। मैं इस जोरदार स्वागत के लिए आप सभी का शुक्रिया अदा करता हूं।”

किस ऑपरेशन एंटेबे का जिक्र कर रहे थे मोदी?

  • ठीक 41 साल पहले यानी 4 जुलाई 1976 को यूगांडा के एंटेबे में इजरायल ने कमांडो ऑपरेशन चलाया था। वहां फलस्तीनी उग्रवादियों ने एयर फ्रांस के प्लेन को हाईजैक कर लिया था। प्लेन में 248 पैसेंजर्स सवार थे।
  • इजरायल ने 4000 किमी दूर अपने 100 कमांडो प्लेन से भेजे। ऑपरेशन में इजरायली कमांडो लेफ्टिनेंट कर्नल योनातन नेतन्याहू शहीद हो गए। योनातन मौजूदा पीएम नेतन्याहू के बड़े भाई थे।

बेंजामिन नेतन्याहू ने कहा- यह ऐतिहासिक दिन है

नेतन्याहू ने मंगलवार को अपनी स्पीच की शुरुआत हिंदी में की। उन्होंने कहा, “आपका स्वागत है मेरे दोस्त। 70 साल से भारत का इंतजार था। अंतरिक्ष तक इजरायल के भारत से रिश्ते हैं, दोनों देशों के रिश्ते आसमान से भी ऊंचे हैं।