lalu-yadav-cbi-red
लालू ने पीएम मोदी और शाह पर महागठबंधन में दरार डालने का आरोप लगाते हुए कहा, 'चिल्लर और खटमल उनकी (लालू की) दवाई से खत्म हो जाएंगे.'

रेलमंत्री रहते हुए कथित भ्रष्टाचार के मामले में शुक्रवार को लालू परिवार के 12 ठिकानों पर सीबीआई की दबिश के बाद पूरे मामले पर सफाई देने के लिए राष्ट्रीय जनता दल प्रमुख लालू प्रसाद यादव अपने बेटे और मामले के सह-आरोपी तेजस्वी यादव मीडिया के सामने आए. लालू ने पटना में प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि नरेंद्र मोदी और अमित शाह के इशारे पर उनके परिवार को परेशान करने के लिए सीबीआई का इस्तेमाल किया जा रहा है.

लालू यादव ने यहां कहा कि इस मामले में सीबीआई का दोष नहीं, बल्कि इसमें मोदी और अमित शाह का दोष है. आरजेडी सुप्रीमो ने कहा, ‘मैं चारा घोटाले के मामले की सुनवाई के लिए रांची में था. वहीं सुबह मुझे पता चला कि सीबीआई के 17 अधिकारी मेरे घर छापे के लिए आए. सीबीआई के लोगों ने ऊपर से ऑर्डर की बात कही. मैंने परिवार के लोगों से सीबीआई के साथ सहयोग करने को कहा. अब सीबीआई जवाब दे कि उनको मेरे घर से क्या मिला.’

इसके साथ ही उन्होंने सवाल किया कि इस कथित घोटाले के समय तेजस्वी तो नाबालिग था, तो ऐसे में उसके खिलाफ केस कैसे दर्ज कर लिया गया. लालू यादव ने अपनी सफाई में कहा, ‘मैं 31 मई 2004 में रेलमंत्री बना था, जबकि होटल का लीज 2003 में दिया गया.’ उन्होंने कहा, अटल जी की सरकार में ही लिए गए फैसले के तहत 2006 में टेंडर दिया गया. इसकी कीमत 1 करोड़ 15 लाख थी और यह टेंडर अधिक बोली के हिसाब से दिया गया है. इसमें कह रहे हैं कि होटल के बदले जमीन मिल गई.

इसके साथ ही उन्होंने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, सीबीआई प्रधानमंत्री के अधीन है. राज उनका है, सीबीआई उनकी है. ये हमको डीमोरलाइज करना चाहते हैं, हम डीमोरलाइज होने वाले नहीं है. इनकी घुड़की से हम डरने वाले नहीं है. 27 अगस्त को होने वाली ‘भाजपा भगाओ-देश बचाओ’ रैली फेल करने के लिए ये सब किया जा रहा है.

पीएम मोदी और उनकी भाजपा सरकार के मुखर विरोधी रहे लालू ने कहा, ‘वे मुझे खत्म करना चाहते हैं. सुनो मोदी, अमित शाह, फांसी के फंदे पर लटक जाएंगे, लेकिन उससे पहले तुम्हारा अहंकार, बुनियाद चूर-चूर कर देंगे.’ उन्होंने पीएम मोदी और शाह पर महागठबंधन में दरार डालने का आरोप लगाते हुए कहा, ‘चिल्लर और खटमल उनकी (लालू की) दवाई से खत्म हो जाएंगे.’

इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में लालू यादव के साथ मौजूद उनके बेटे और बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव काफी उखड़े-उखड़े से नजर आए. इस दौरान एक सवाल पर उनकी प्रतिक्रिया से थोड़ा हंगामा भी हुआ, हालांकि लालू ने बीचबचाव कर मामला शांत कराया. इसके बाद पत्रकारों ने जब लालू से आगे की रणनीति के बारे में सवाल किया, तो उन्होंने कहा कि बीजेपी सरकार को उखाड़ फेकेंगे.